अनुलोम विलोम प्राणायाम के स्वास्थ्य लाभ: योगाभ्यास आपके लिए एक वरदान है (Anulom Vilom Pranayam Benefits)

अनुलोम विलोम क्या है? (What is Anulom Vilom Pranayam)

अनुलोम विलोम योग के अभ्यास में एक विशिष्ट प्रकार की प्राणायाम है। इसमें साँस लेते समय एक नथुने (Nostril) को बंद रखना, फिर साँस छोड़ते हुए दूसरे नथुने को बंद रखना शामिल है। फिर प्रक्रिया को उल्टा करे और फिर से करे|

कहा जाता है कि वैकल्पिक नथुने (Alternate Nostril Breathing) से सांस लेने से तनाव में कमी और बेहतर श्वास और सर्कुलेशन सहित कई शारीरिक और मनोवैज्ञानिक लाभ होते हैं। ऐसे कुछ वैज्ञानिक प्रमाण हैं जो इनमें से कुछ दावों का समर्थन करते हैं।

अधिकांश लोग अनुलोम विलोम श्वास का अभ्यास सुरक्षित रूप से और बिना किसी दुष्प्रभाव के कर सकते हैं।

वज्रासन के फायदे 

अनुलोम विलोम के संभावित लाभ (Anulom Vilom Pranayam Benefits)

जैसे-जैसे आप अपनी श्वास पर नियंत्रण प्राप्त करते हैं, आपको तुरंत इसका प्रभाव समझ में आएगा|

अनुलोम विलोम प्राणायाम का अभ्यास सुबह सबसे पहले करने से आपके दिन की शुरुआत एक बेहतर जगह से करने में मदद मिल सकती है। यह बेहतर नींद को बढ़ावा देने के लिए शाम को भी काम कर सकता है।

अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से आपके मस्तिष्क के साथ-साथ आपके श्वसन और हृदय प्रणाली को भी लाभ हो सकता है। यह तनाव को कम करने के लिए भी असरदार है

ये ऐसे बदलाव हैं जो आपके स्वास्थ्य और कल्याण के हर पहलू को प्रभावित कर सकते हैं।

 

श्वसन तंत्र (Anulom Vilom For Respiratory System)

एक छोटे से अध्ययन के अनुसार, योग श्वास अभ्यास (Yoga Breathing Practice) फेफड़ों (Lungs) के कार्य और सहनशक्ति में सुधार कर सकता है।

इस शोध में प्रतिस्पर्धी तैराक शामिल थे जिन्होंने वैकल्पिक नाक से सांस लेने के साथ-साथ दो अन्य श्वास प्रथाओं का इस्तेमाल किया। प्रतिभागियों ने एक महीने के लिए सप्ताह में 5 दिन 30 मिनट के लिए श्वास अभ्यास किया।

2019 के एक समीक्षा लेख में पाया गया कि फेफड़ों के कार्य को बढ़ाने के लिए योगिक श्वास (Yogic Breathing) एक प्रभावी तरीका है।

अन्य शोध से पता चलता है कि अनुलोम विलोम योग दिन में 30 मिनट तक सांस लेने से साइनस की सूजन (राइनोसिनसिसिटिस) में सुधार हो सकता है। यह स्थिति आपकी नाक और साइनस से बलगम (Mucus) निकालने की आपकी क्षमता में हस्तक्षेप करती है।

 

 दिमाग Anulom Vilom Yog for Brain

एक यादृच्छिक नियंत्रित परीक्षण में, 96 मेडिकल छात्रों को दो समूहों में विभाजित किया गया था। एक समूह ने 6 सप्ताह तक भस्त्रिका योग और अनुलोम विलोम प्राणायाम किया। दूसरे ने सूर्य नमस्कार किया, योग सूर्य नमस्कार का एक सेट। (Set of sun yoga solution)

दोनों समूहों ने सामान्य सुधार दिखाया। लेकिन केवल प्राणायाम समूह ने अनुभूति और चिंता (Cognition and Anxiety) में उल्लेखनीय सुधार दिखाया।

2018 की एक समीक्षा बताती है कि विभिन्न प्रकार के योगिक श्वास स्वस्थ लोगों में न्यूरोकॉग्निटिव, साइकोफिजियोलॉजिकल, जैव रासायनिक और चयापचय कार्यों को लाभ पहुंचा सकते हैं।

 

कार्डियोवास्कुलर सिस्टम/ Heart (Anulom Vilom For Cardiovascular system )

2011 और 2013 में किए गए अध्ययनों में पाया गया कि Anulom Vilom से हृदय क्रिया पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है, रक्तचाप (Blood pressure ) और हृदय गति (Heart rate) कम होती है।

 

आपकी त्वचा Anulom Vilom for Skin

अनुलोम विलोम सांस लेना त्वचा के लिए अच्छा होता है। त्वचा शरीर का सबसे बड़ा अंग है, और यह तनाव, साथ ही श्वसन और हृदय स्वास्थ्य से प्रभावित हो सकता है।

 

आँखें Anulom Vilom for Eyes

आपने सुना होगा कि अनुलोम विलोम सांस लेने से आंखों की रोशनी में सुधार हो सकता है। हालांकि, यह ज्ञात है कि आंखों का स्वास्थ्य ऑक्सीजन की अच्छी आपूर्ति पर निर्भर करता है।

Anulom Vilom से श्वसन और हृदय स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है, इसलिए यह आपकी आंखों के लिए कुछ लाभ प्रदान कर सकता है।

 

क्या कोई दुष्प्रभाव या जोखिम हैं? Side effects of Anulom Vilom Yoga

अनुलोम विलोम श्वास अधिकांश स्वस्थ लोगों के लिए सुरक्षित होना चाहिए, बिना किसी ज्ञात जोखिम के। अध्ययनों में पाया गया कि प्रशिक्षित शिक्षक द्वारा निर्देशित होने पर योगिक श्वास सुरक्षित है।

एक या दो मिनट के साथ शुरुआत करना और जैसे-जैसे आपका आत्मविश्वास बढ़ता है, धीरे-धीरे बढ़ना है। अगर आपको हल्कापन महसूस हो या सांस लेने में तकलीफ हो तो रुक जाएं।

अनुलोम विलोम श्वास (Anulom Vilom Breathing) शुरू करने से पहले, अगर आपको पुरानी श्वसन या हृदय संबंधी समस्या है तो डॉक्टर से बात करें।

अनुलोम विलोम प्राणायाम का अभ्यास कैसे करें (How to Practice Anulom Vilom)

अनुलोम विलोम को खाली पेट करना चाहिए, खासकर खाना खाने के 4 घंटे बाद। आपको एक शांत, आरामदायक वातावरण भी मिलना चाहिए।

  • ध्यान बैठने की मुद्रा चुनें। अपनी रीढ़ और गर्दन को सीधा रखें और आंखें बंद कर लें।
  • इस पल के बाहर की हर चीज से अपना दिमाग साफ करें।
  • अपनी बाहरी कलाइयों को अपने घुटनों पर टिकाकर शुरुआत करें।
  • अपने दाहिने हाथ का उपयोग करते हुए, अपनी मध्यमा और तर्जनी (Middle and index finger) को अपनी हथेली की ओर मोड़ें।
  • अपने अंगूठे को अपने दाहिने नथुने पर और अपनी अनामिका को बाएं नथुने पर रखें।
  • अपने दाहिने नथुने को अपने अंगूठे से बंद करें और अपने बाएं नथुने से धीरे-धीरे और गहराई से श्वास लें, जब तक कि आपके फेफड़े भर न जाएं। अपनी श्वास पर ध्यान दें।
  • इसके बाद, अपना अंगूठा छोड़ें और अपनी अनामिका से अपने बाएं नथुने को बंद करें।
  • दाहिनी नासिका से धीरे-धीरे सांस छोड़ें।
  • अब इसे उल्टा करें, इस बार दाएं नथुने से सांस लें और बाएं से सांस छोड़ें।

पूरी प्रक्रिया के दौरान, अपनी श्वास के प्रति सचेत रहें और यह कि यह शरीर और मन दोनों को कैसे प्रभावित करती है।

इसे शुरू करने के लिए एक या दो मिनट के लिए प्रयास करें। पहली बार जब आप कोशिश करते हैं, तो यह थोड़ा अजीब लग सकता है, इसलिए इसे केवल तब तक करें जब तक आप सहज हों।

अपने आप को अपने कम्फर्ट जोन से बाहर करने के लिए मजबूर न करें – आप हमेशा दूसरी बार फिर से कोशिश कर सकते हैं। नियंत्रण और आराम में महसूस करना महत्वपूर्ण है। अपना समय अपनी गति से बढ़ाएं।

यह एक प्रशिक्षित योग शिक्षक (Trained Yoga Teacher) के साथ काम करने में मदद कर सकता है जो आपको उचित तकनीक पर निर्देश दे सकता है।

अनुलोम विलोम एक प्रकार का Alternate Nostril Breating है  जिसका उपयोग योग के अभ्यास में किया जाता है। यह शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य लाभों को बढ़ावा देने के लिए विख्यात है जैसे:

  • धैर्य, ध्यान, और नियंत्रण
  • तनाव और चिंता से राहत
  • मस्तिष्क, श्वसन और हृदय स्वास्थ्य में सुधार
  • भलाई की बेहतर समग्र भावना

आप Anulom Vilom Yoga स्वयं आजमा सकते हैं या किसी अनुभवी योग प्रशिक्षक से सीख सकते हैं।

अगर आपको पुरानी सांस या हृदय संबंधी समस्याएं हैं, तो डॉक्टर से बात करें, लेकिन अनुलोम विलोम सांस लेना ज्यादातर लोगों के लिए सुरक्षित है। (Anulom Vilom Practice is Safe)

Leave a Reply

Your email address will not be published.